IPL की शुरुआत- starting of IPL

 आईपीएल (IPL) की शुरुआत 

IPL का फुल फॉर्म इंडियन प्रीमियर लीग(Indian Premier League) है जिसकी शुरुआत 2008 में बीसीसीआई (BCCI) द्वारा साल 2007 में हुई थी जबकि इसके बोर्ड की स्थापना साल 2007 में BCCI के सदस्य ललित मोदी ने की थी। 18 अप्रैल 2008 को आईपीएल (ipl) का पहला मैच खेला गया था। अब तक इसके 15 सीजन संपन्न हो चुके हैं। शुरुआत में साल 2008 में कुल 7 टीमों ने हिस्सा लिया था। चेन्नई सुपर किंग्स, मुंबई इंडियंस, रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु, डेक्कन चार्जर्स, राजस्थान रॉयल्स, कोलकाता नाइट राइडर्स, किंग्स 11 पंजाब ने इस सीजन में हिस्सा लिया था। 
2008 में चेन्नई सुपर किंग्स को फाइनल में हराकर राजस्थान रॉयल्स ने पहले सीजन की ट्रॉफी अपने नाम की थी। लोगों को यह जानकर आश्चर्य होगा कि इंडियन प्रीमियर लीग विश्व की दूसरी सबसे बड़ी और महंगी क्रिकेट लीग बन चुकी है।



T20 क्रिकेट का प्रचलन 

आईपीएल शुरू होने से पहले T20 क्रिकेट ज्यादा प्रचलित नहीं था। एक समय था जब 20-20 ओवर की क्रिकेट को विश्व के दिग्गज खिलाड़ी खेलना पसंद नहीं करते थे।सबकी दिलचस्पी टेस्ट क्रिकेट और केवल वनडे क्रिकेट खेलने में हुआ करती थी। तब बीसीसीआई ने एक ऐसा फैसला लिया जिससे क्रिकेट इतिहास की कायापलट हो गई। आईसीसी ने 2007 में 20 ओवर की क्रिकेट विश्वकप का एलान कर दिया। अधिकतर खिलाड़ी सोच विचार में पड़ गए और उन्होंने इस विश्वकप का हिस्सा नहीं होना ही अच्छा समझा। खिलाड़ी सोच रहे थे कि 20-20 ओवर की क्रिकेट से उनका गेम खराब हो जाएगा।

2007 का world cup

भारत के भी कई दिग्गज खिलाड़ी उस 2007 विश्वकप का हिस्सा नहीं थे। भारत की T20 World Cup की टीम लगभग युवा खिलाड़ियों से भरी हुई थी जिसकी कप्तानी यूवा महेंद्र सिंह धोनी के हाथों में थी जिन्होंने अपना क्रिकेट कैरियर हालही में शुरू किया था। भारत की युवा टीम ने T20 World Cup 2007 में अच्छा प्रदर्शन किया और World Cup 2007 का ख़िताब अपने घर ले आए। जिससे भारतीयों दर्शक और खिलाड़ियों की t20 क्रिकेट को देखने का नजरिया बदल गया।

आईपीएल (IPL) की नीव 

बीसीसीआई के सदस्य रहे ललित मोदी ने साल 2007 में एक प्रस्ताव रखा था। यह प्रस्ताव भारत की घरेलू T20 लीग का था जिससे आज हम सभी लोग आईपीएल (Indian Premier League) के नाम से जानते हैं आईपीएल के आने के बाद खिलाड़ी इसमें रुचि लेने लगे थे। T20 क्रिकेट ने अपना वर्चस्व स्थापित कर दिया था। अलग–अलग देश से लोग अब भारत आने लगे थे। धीरे–धीरे लोगो के बीच T20 और आईपीएल का वर्चस्व बढ़ने लगा और IPL पूरे विश्व में प्रसिद्ध हो गया। 
आज IPL की प्रसिद्धि और लोकप्रियता को शब्द में बखान नहीं किया जा सकता। विश्व के बड़े–बड़े खिलाड़ी IPL खेलने के लिए मरते है। इस लीग से कई क्रिकेट को पहचान मिली है। युवा खिलाड़ियों के लिए यह लीग स्वर्ग से कम नही कई युवा खिलाड़ियों को इस लीग से विश्व स्तर पर पहचान मिली है।